ये बीते दौर की बात हो गई की महिलाये हर एक क्षेत्र में पिछड़ी हुई थी. अब ये हर एक क्षेत्र में चाहें वो मीडिया क्षेत्र हो, राजनीतिक क्षेत्र, कृषि क्षेत्र हो या फिर प्रशासनिक क्षेत्र इन सभी क्षेत्रों में वो पुरुषों के साथ कंधा से मिलाकर तीव्र गति से आगे बढ़ रही है. अगर आज के समय कृषि के क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी की बात की जाएं तो उनका बड़ा योगदान है. गृहकार्य करने के साथ -साथ महिलाएं अब खेती के लिए भी ज्यादा श्रम कर रही है. चार दीवारी के अंदर रहने वाली महिलाएं भी घरों से बाहर निकल कर अब कृषि क्षेत्र में अपने पैर पसार रही है और फसल तैयार होने से लेकर उसके भंडारण और रखरखाव से लेकर मार्केटिंग के क्षेत्र का भी पूरा ज्ञान प्राप्त कर एक सफल महिला किसान बन रही है.


Read more click