नानी के घर जायेंगे दूध मलाई खाएंगे, भारत में ढूध की नदिया बहती हैं. श्वेत क्रांति के जनक डॉ कुरियन ने ऐसा काम किया की भारत में दूध की कोई कमी नहीं रही. लेकिन एक चौंकाने वाली बात है की जितना दूध का उत्पादन हो रहा है उससे अधिक दूध की खपत हो रही है. जाहिर है की असली दूध न हो कर मिलावटी दूध की उपलब्धता है, जिसका पता लगाने के लिए कई तरह की किट बाजार में मिल रही हैं. कृषि विश्वविद्यालय भी ऐसी लैब किट बना रहे है जिससे दूध में मिलावट का पता लगाया जा सके.

 

read more info